शादीशुदा गर्लफ्रैंड को जंगल में

शादीशुदा गर्लफ्रैंड को जंगल में चोदा- 2

पोर्न सेक्स गर्लफ्रेंड स्टोरी में मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को अपने दोस्त के सामने सुनसान जगह पर चोदा. मेरा दोस्त हमारी फोटो और वीडियो ले रहा था.

नमस्कार दोस्तो, मैं अभिमन्यु एक बार फिर आपका स्वागत करता हूं मेरी कांड भरी गाथा में।

तो दोस्तो, जैसा कि आप सभी ने मेरी कहानी का पहला भाग
पुरानी गर्लफ्रेंड की चुदाई की ललक
में पढ़ा कि कैसे मैं, मीशी और मोनू अब अपना असली प्रोग्राम शुरू करने वाले थे और अंत में पता चलेगा कि हमारे साथ क्या कांड हुआ और किसकी गलती से!

अब आगे पोर्न सेक्स गर्लफ्रेंड स्टोरी:

न्यू-भेड़ाघाट में एक शांति भरी जगह में अब हम लोग अपनी दारू पार्टी शुरू करने वाले थे।

मोनू तो अपनी गर्लफ्रैंड से फोन में बतियाए जा रहा था.
अब मैं और मेरी जान मीशी बैग से दारू पार्टी का सामान निकालने लगे.
साथ ही साथ मैं अपनी जान की गद्देदार गान्ड को भी सहलाए जा रहा था और बीच बीच में उन्हें मसल देता तो कभी उनमें जोर से चमाट मार देता.

मीशी- आह … उम्म … क्या कर रहे हो जान, ऐसे भी कोई मारता है क्या? मेरी तो लाल हो गई।
मैं- चुप ना रे, जब से तो बाईक में मेरा लन्ड पकड़ कर बैठी थी और मेरे झांटें सुलगाए जा रही थी. अब देखना मेरी जान, कैसे तेरी लाल करता हूं, और तेरा रस निचोड़ता हूं।
मीशी- जान, मैं तो कबसे चाहती हूं कि आप मेरा सारा रस निकाल दो. देखो ना आपकी इस रसभरी का रस काफी समय से अंदर ही है।
मैं- हां मेरी रानी, तू बस देखती जा, आज कैसे तेरा रस निकलता हूं।

हमारी इन्ही सब बातों से वो भी अब धीरे धीरे मूड में आने लगी और अपने कातिल एक्सप्रेशन बिखेरने लगी.
वह अपने रस भरे होंठों को दांतों तले दबाकर मुझे अपनी हवस भरी नजरों से देखने लगी।

अब हमारा हवस भरा खेल का सिलसला चल पड़ा क्योंकि मेरे लगातार उसकी गान्ड सहलाने और उसके दूध मसलने से अब वो पूरी तरह से गर्माने लगी थी और अब वो भी इसे एंजॉय कर रही थी।

अब मैंने मेरी जान का हाथ पकड़ा और उसे मेरे ऊपर खींच लिया.
वह अपने दोनों पैर क्रॉस करके मेरी गोद में आकर बैठ गई जिससे मेरे अंडे दब गए लेकिन मेरा लन्ड अपने पूरे उफ़ान में था और टन्नाया हुआ था।

अपनी बेबी डॉल को इस कातिल पोजिशन में अपने लौड़े के ऊपर बैठा कर भला मैं कैसे सब्र करता … तो मैंने अपनी जान के रस से सराबोर लबों को किसी वहशी की तरह बेतहाशा चूमना शुरू कर दिया और दो – तीन बार उसके निचले होंठ को भी काट दिया.

जिससे वो एकदम से तिलमिला उठी- आह … आह … उम्म्म … नहीं न … रुको न जान … उम्म्म्म … रुको यार … रुको न … उम्मम आह … आह … उम्मम … नहीं यार रूक जा … बोल रही हूं न!
दर्द से कराहती हुई वो गुस्से में बोलने लगी तो मुझे रुकना पड़ा।

दोस्तो, चुदाई का माहौल सैट हो चुका था.
हम दोनों ही गर्माए हुए थे कि तभी हमारा दोस्त मोनू वहां आ धमका और बोला- ये दारू और बाकी आईटम देखने के लिए लाए हैं न अपन लोग?
मैं भी चिढ़ते हुए बोला- अरे लौड़े .. गलत टाइम में आ गया।

खैर अब मेरी जान मीशी भी बोलने लगी- हां जान, पहले ये सब खत्म कर लेते हैं. मुझे भी पीनी है. और सबसे पहले तो सिगरेट सुलगाओ।

मैं भी बोल पड़ा- भेनचौद यहां मेरे झांट सुलगे हुए हैं और तुम लोगों को सिगरेट सुलगाने की पड़ी है!
और हम सब हंसने लगे।

अब मेरा दोस्त हम तीनों के लिए पैग बनाने लगा और ये भैन की लौड़ी मेरे सामने आकर फिर से मेरी गोद में बैठ गई और सिगरेट सुलगाने लगी।

ख़ैर मेरी जान के मोटे मोटे चूतड़ मेरे लन्ड के ऊपर थे और वो आराम से बैठ कर सिगरेट सुलगाए जार ही थी और साथ ही मुझे भी कश दे रही थी।

पता नहीं उस भेन की लौड़ी को क्या सूझा … तो वो कश लेने के साथ साथ बिना धुआं छोड़े मुझे चूमने लगी जिससे बिना कश लिए ही सारा धुआं मैंने ले लिया.
फिर दोनों साथ में सिगरेट का धुआं छोड़ने लगे.

ऐसा मैंने एक वीडियो में देखा था.
मेरी जान का यह स्टाइल मुझे काफ़ी रोमांचित कर गया और उसने भी बताया कि उसने एक वीडियो में ही ऐसा देखा था. तब से उसे ऐसा करने की इच्छा थी. लेकिन उसका पति न तो सिगरेट पीता है और न दारू!

ख़ैर, हम तो अपनी मस्ती में मस्त थे ही!
तो हमने ध्यान नहीं दिया कि मोनू हमारी पिक्स ले रहा है और वीडियो बना रहा है.
और न तो मुझे और न ही मीशी को इस बात का डर था क्योंकि वह हमारा सबसे भरोसे वाला लौंडा था।

हम लोग अपनी मुखचोदी में मस्त रहे और मोनू ने हम तीनों के लिए पैग तैयार कर लिया।

पैग तैयार होते ही मेरी जान अपना पैग लेकर फिर से मेरी गोद में बैठ गई।
फिर हम तीनों ने जाम टकराते हुए पीना शुरू किया.

लेकिन मीशी रुकी रही और मेरे जाम खत्म करने के बाद अपना पैग मेरे हाथ में देते हुए कहने लगी- जान आप पिलाओ मुझे अपने हाथों से!
फिर मैंने ही मेरी जान को पिलाना शुरू किया.

थोड़ी ही पीने के बाद उसने मुझसे बोली- जान ऐसे नहीं, अपने लबों से पिलाओ आप!
तब मैंने थोड़ी शराब खुद पीते हुए उसे अपने लबों से किस करते हुए पिलाया।

अब माहौल सैट हो चुका था, पीने पिलाने का फुल मौसम सेट था।

अब तो मैं और मेरी रानी शराब के साथ साथ सिगरेट भी किस करते हुए एक दूसरे को पिला रहे थे.
और ये भोसड़ी का मोनू हम दोनों की वीडियो बना रहा था।

खैर, ये सब हुआ।

अब मोनू दूर जाकर अपने सैटिंग से फोन में बतियाने लगा और अब मैं और मेरी जान काफी देर से गर्माए हुए एक दूसरे को प्यार और हवस की नज़रों से देख रहे थे।

मैं अब मीशी को थोड़ा और साइड में लेकर गया।
मीशी- जान, कहाँ जा रहे हैं हम लोग?
मैं- चलो जान, अब ज़रा प्यार भरी बातें हो जाए और प्यार भी कर लिया जाए।

मीशी- जान अगर कोई आ गया यहां तो दिक्कत हो जाएगी. और हो सकता है मेरे घर तक बात चली जाए।
मैं- डर मत मेरी रानी, मोनू है न अपने साथ! और बाहर साइड भी इसलिए गया है कि हमें किसी प्रकार की डिस्टर्बेंस न हो।

दोस्तो, अब मौका भी था और दस्तूर भी, कोई थोड़ी बहुत झिझक मीशी में रही होगी तो वो भी अब दारू और सिगरेट के नशे में सब जा चुकी था।

अब मैं और मेरी जान दोनों एक दूसरे में समां जाने को तैयार एक दूसरे की बाहों में लिपटे हुए, एक दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे और धीरे धीरे एकदम जंगली बनने लगे.
जैसे कि इसके बाद हमें एक दूसरे को किस करने का मौका ही नहीं मिलेगा।

मैंने भी मीशी को वहीं एक साइड बैठाया और उसके ऊपर चढ़ बैठा और उसे बहुत जोर जोर से किस करने लगा।
उसके होठों को मैं अपने दांतों से पकड़ कर ऐसे खींचने और काटने लगा जिससे वह तिलमिला उठी, कराहने लगी और जोर से मुझे अपनी बाहों में जकड़ कर दबोचने लगी।

हम दोनों ही एक दूसरे को लगातार 10 से 15 मिनट तक बेतहाशा चूमते और चाटते रहे।
अब हम दोनों सब कुछ भूल कर बिना किसी डर के एक दूसरे को प्यार कर रहे थे।

मैं धीरे-धीरे अपने हाथों का जादू मीशी की कमर पर दिखाने लगा और हाथों को उसके कमर से ऊपर की ओर ले जाकर उसके मोटे और गदराए हुए दूध दबाने लगा जिससे उसकी आह… निकल गई।

मीशी- आह … उम्मम्म … सुनो जी, थोड़ा आराम से दबाओ न इन्हें! ये भी आपके प्यार को तरस रहे थे, जैसे मैं पिछले एक साल से तरस रही हूँ. लेकिन आप हो कि एकदम जोरों से इन्हें मसल रहे हो. वैसे भी देखो न ये कितने बड़े और भारी हो गए हैं।

“देखने दोगी तभी तो देखूंगा न मेरी जान!” बोलकर मैंने सबसे पहले उसकी जैकेट फिर टी-शर्ट उतारा।
“ओह माई गोड, कितने दिनों बाद तुम्हे देख रहा हूं मेरे बच्चो, लगता है अपने असली बाप को भूल गए!”

मैं मीशी की दोनों मम्मों से बात करने लगा और बारी बारी से ब्रा के ऊपर से ही किस करने लगा।

मीशी- उम्म … उम्म् … हां … उम्म्म जान, जान ब्रा खराब होगी ऐसे में … और आपको इसका हुक भी लग सकता है … उम्म … ओह … जान!

मेरी रानी मीशी समझदार है इसलिए मुझे कुछ बोलना ही नहीं पड़ा और वह खुद अपनी ब्रा उतार कर, अपने दोनों हाथों से मेरे सिर को पकड़ कर अपने मम्मे चुसवाने लगी और बड़ी ही तसल्ली और प्यार से कराहने लगी और उसकी सांसें तेज़ होने लगी।

अब वह अपना एक पैर मेरी कमर में डालकर सेक्सी पोज़ में मुझसे लिपती हुई बस कराहते हुए तेज़ तेज़ सांसें ले रही थी और मैं भी अब धीरे धीरे दिखाने लगा कि मैं कब से उसके लिए तरस रहा था, इसीलिए मैं उस पर टूट पड़ा और बेतहाशा जोश और ताकत दिखाने लगा।

कभी मैं उसके दोनों दूध को पूरी ताकत से मसल देता तो कभी उसके निप्पल को अपने दांत से काट था और अंगूठे से मसल देता जिससे वह पागल हुए जा रही थी और आनंद के मारे मेरी बाहों में जल बिन मछली जैसे फड़फड़ा रही थी.

अब मैंने उसे नीचे से भी नंगी करना चालू कर दिया.
उसके दूध दबाते हुए मैं नीचे आने लगा, उसके पेट को चूमने और चाटने लगा, उसकी नाभि को अपनी जीभ से चुभलाने और चाटने लगा।

वह बस आनंद से कराह रही थी और सिसकारियां लिए जा रही थी- बेबी और जोर से और जोर से, प्यार से काटो!
ऐसे बोले जा रही थी।

मैंने उसकी जींस उतारा और साथ ही उसकी मक्खन जैसी चूत पर सजी हुई उसकी पेंटी को अपने दांतों से पकड़ कर खींचा और उतारने लगा जिससे कि उसकी रसभरी चूत की महक मेरी नाक में समा गई.
और उसे भी अपनी चूत पर मेरी नाक से रगड़ होते हुए मजा आ गया।

अब और सब्र करना मेरे बस में भी नहीं था तो मैंने बिना वक्त गंवाए उसे वहीं पर लेटा दिया और पूरी तरीके से नंगी कर दिया.
वह मेरे सामने किसी स्वपन सुंदरी या कामदेवी से कम नहीं लग रही थी.

उसने भी मुझे अपने ऊपर खींचते हुए मेरी टीशर्ट को निकाला और मेरे सीने पर मेरे निप्पल पर बेतहाशा चूमने और चाटने लगी और मेरी पीठ पर अपने नाखून गड़ाने लगी.
उसकी इस हरकत से मैं चौंक गया था.
पर मैं जानता भी था कि वह मेरे लिए कब से तड़प रही है.

हम दोनों का प्रेम मिलाप 10 मिनट तक ऐसे ही चलते रहा.
फिर उसने मेरी जींस उतारना शुरू किया और ठीक वैसे ही अपने दांतों से पकड़ कर मेरी अंडरवीयर को खींचा जिससे मेरा टन्नाया हुआ सांप उसके मुंह पर जा लगा और वह उसे चूमने लगी.
चूमते चूमते उसने उसे मुंह में भर लिया.

अब वह किसी माहिर पोर्न स्टार की तरह मेरे लौड़े को चूसे जा रही थी.
और मैं भी जन्नत का मजा ले रहा था.
मेरी रानी की लंड चुसाई का कोई जवाब नहीं।

“हां बेबी ऐसे ही चूसते रह … बहुत अच्छा चूस रही है … मजा आ गया। उफ़ … ओह … याह बेबी सक इट!”
मीशी- बहुत दिनों बाद मिला है … ऐसे कैसे छोड़ दूंगी … इसके लिए तो कितना रिस्क लेकर आपके साथ आई हूं. उम्मम … उम्म्म … बड़ा स्वाद है इसमें!

बस फिर क्या था मैंने उसे वहीं लेटा दिया और उसके दोनों पैरों को चौड़ा करके उनके बीच आ गया.
मैं उसकी मक्खन जैसी चूत पर चूमने लगा और उसे सहलाने लगा.

इससे वह और भी तड़प उठी और अपने पैरों को मेरी पीठ में लिपटा कर मुझे जोर से अपनी ओर खींचने लगी.

मैं लगातार उसकी जांघ और चूत चाटे जा रहा था और उसके दोनों गदराए हुए स्तनों को मसल रहा था।

“हां जान ऐसे ही करते रहो … बहुत मजा आ रहा है. बहुत तड़पी हूं मैं इस दिन के लिए … तुमसे मिलने के लिए … तुमसे प्यार करने के लिए … न जाने कब से मेरी चूत तुम्हारे लंड लिए फड़फड़ा रही थी. आज अच्छे से प्यार करो, इसे खा जाओ. मसल डालो. मेरे दूध भी फाड़ डालो. मैं अब भी तुम्हारी ही हूं.”

मेरे लगातार ऐसे करते रहने से वह तड़पने लगी थी और एक दो जगह तो मैंने उसकी जांघ पर भी काट दिया।

अब मैंने वक्त गंवाना सही नहीं समझा और उसे चोदने की पोजीशन में आ गया.
उसे किस करते हुए मैं अपने लंड को पकड़ कर उसकी चूत पर मारने लगा.

मेरे तने हुए लंड की मार अपनी चूत पर पड़ते ही वह गनगना उठी.
फिर मैं भी तैश में आकर उसे किस करने लगा और अपने लंड को पकड़ कर उसकी चूत में लगाया।

मेरा लंड उसकी चूत में जाते ही वह एकदम से एक सिहर उठी और अपने नाखूनों को मेरी कमर और पीठ में नाखून गड़ाने लगी और पागलों की तरह मुझे चूमने लगी।

उसी गर्म सांसें दहकते अंगारों से कम नहीं थी.

अब मैंने भी उसे चूमते हुए अपने लंड को उसकी चूत द्वार में अंदर बाहर करना शुरू कर दिया और उसे चोदने लगा।

वैसे मानना पड़ेगा कि इतने समय बाद भी उसे चोदने में मुझे उतना ही मजा आ रहा था जितना कि कुछ साल पहले आया था, तब वह एक कच्ची कली थी और मैंने ही उसकी सील तोड़ चुदाई किया था।

हम दोनों को चुदाई करते हुए 20 मिनट हो चुके थे और मोनू भी एक दो बार कॉल कर चुका था.
अब हम दोनों ही अपने चरम पर आ चुके थे.
मेरी रानी भी अब दूसरी बार झड़ने वाली थी और मैं भी अपनी पूरी कसर निकालते हुए अब झड़ने वाला था.

हम दोनों ने ही एक दूसरे को साथ में खाली किया और एक दूसरे की बाहों में समा गए।

मैंने मेरा सारा माल मीशी की चूत में ही पेल दिया.
वह भी एक्सप्रेस ट्रेन को तरह हांफे जा रही थी और मुझसे चिपकी हुई थी, छोड़ ही नहीं रही थी।

फिर धीरे धीरे हम दोनों जैसे तैसे नॉर्मल हुए.
तो मीशी ने मुझे कहा- थैंक्स जान, आप मेरे लिए इतनी दूर से आए, मैं बता नहीं सकती कि मैं अभी भी आपसे कितना प्यार करती हूं!

उसकी बात सुनकर मैं भी उसे प्यार से चूमने लगा।

फिर हम अलग हुए तो मीशी की नजर इसके मोबाइल पर पड़ी जिसमें 3 मिस्ड कॉल थी।

अब मीशी के हस्बैंड का भी कॉल आने लगा था क्योंकि काफी टाइम हो चुका था और वह कॉल भी काट रही थी.
लेकिन लगातार कॉल आ रहा था तो उसने अपने हस्बैंड से बात करके उसे बताया कि वह अपनी किसी सहेली से मिलने सिटी आई है.

हमने भी वह ज्यादा देर रुकना सही नहीं समझा और मैं मीशी और मोनू हम वहां से निकल गए।

मीशी को उसके घर से थोड़ा पहले छोड़ा.
फिर मोनू वाली बाइक दोस्त को वापस की और फिर हम दोनों वापस मंडला आने लगे।

दोस्तो, यही वो वक्त था जब हमारी गांड फटने वाली थी.
यही वह कांड था जो होना नहीं चाहिए था.

ड्राइव करते हुए मैंने मोनू से कहा- तेरे फोन की पिक्स और वीडियो मुझे व्हाट्सएप पर दे जो तूने हम दोनों के रिकॉर्ड किया था.
और उसने मुझे तुरंत ही व्हाट्सएप भी किया.

लेकिन गलती यह हुई कि उससे उसकी ऑफिस का ऑफिशियल व्हाट्सएप ग्रुप सेलेक्ट हो गया और हमारी वीडियो और फोटो उसमें चली गई.

हम दोनों थोड़ी दूर पहुंचे ही थे कि उसके ऑफिस वालों का मोनू को कॉल आने लगा और वे बोलने लगे- भाई, यह क्या बवाल शेयर कर दिया देख और तुरंत डिलीट कर!
उसने देखा तो हम दोनों की तो मानो जान हलक में आ गई थी।

मेरी तो गांड फट गई थी.
मोनू भी इसलिए घबरा रहा था क्योंकि उसका बाप भी उसी ऑफिस में सीनियर था और मेरी गांड फटना भी लाजमी था क्योंकि मेरी पहचान के एक मामा भी उस ग्रुप में जुड़े हुए थे.
अगर उनके पास यह खबर जाती तो घर में सबको पता चल जाता और मेरी गांड तो मरना ही था।

हम दोनों की हालत खराब थी.
लेकिन फिर भी दोनों एक दूसरे को दिलासा दे रहे थे.

मोनू ने वह वीडियो और फोटो उस व्हाट्सएप ग्रुप से तुरंत डिलीट भी कर दिया था.

लेकिन कुछ मदरचोद लौंडे अपने फोन में ऐसा व्हाट्सएप भी रखते हैं जिससे कि डिलीट किया हुआ कोई भी डाक्यूमेंट्स या फाइल उनके व्हाट्सएप से डिलीट नहीं होता उन लोगों की मुहचोदी की वजह से मुझे और मोनू को काफी तिगड़म लगाना पड़ा और हम लोगों ने उन्हें फोन करके समझाया और वह सब डिलीट करने के लिए कहा.

हालांकि 15 दिन तक हम दोनों की गांड काफी फटी थी लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ जिससे हम में से किसी का नुकसान हो.
कोई फोटो या वीडियो वायरल नहीं हुआ क्योंकि हम लोगों ने तुरंत में ही पूरा मैटर संभाल लिया था.

दोस्तो, यह मेरा एक सत्य अनुभव था.
हालांकि इस बात को काफी टाइम हो चुका है और मेरा और मीशी का रिलेशन अभी भी चल रहा है.

Posts created 58

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top